Pitru Paksha 2020

Pitru Paksha 2020

पितृ पक्ष ( Ancestral):-

इस वर्ष 2 सितंबर से 17 सितंबर तक 16 दिनों का होगा पितृपक्ष l पितृपक्ष में दो शब्द है l पितृ और पक्ष l

पितृ :-

पितृ अर्थात पिता, पितामह, प्रपितामह, माता, प्रमाता वृद्ध प्रमाता, चाचा – चाची, बड़े भाई – भाभी और भी छोटे बड़े लोग घर परिवार के वे सभी सदस्य जो इस धरती पर नहीं है l अर्थात जिनकी मृत्यु हो गई है l नाना नानी को भी पितर कहा जाता है l

पक्ष :-

पक्ष दो तरह का होता है l एक शुक्ल पक्ष और दूसरा कृष्ण पक्ष, कृष्ण पक्ष पितरों के लिए निर्धारित किया गया है l अश्विन मास के कृष्ण को पितृपक्ष कहा जाता है l पितृ पक्ष भाद्रपद मास के शुक्ल पक्ष की पूर्णिमा से आरंभ होकर आश्विन मास के कृष्ण पक्ष की अमावस्या को समाप्त होता है l

यह पुर पूरे 16 दिनों का पक्ष होता है l कभी-कभी तिथि के छय होने से पितृपक्ष 15 अथवा 14 दिनों का भी होता है l

वर्ष 2020 में 16 दिनों का पितृपक्ष होगा जो 2 सितंबर 2020 बुधवार से आरंभ होकर 17 सितंबर गुरुवार 2020 को सर्वपितृ अमावस्या अथवा महालया या पितृ विसर्जन के रूप में संपन्न हो जाएगा l इस प्रकार इस वर्ष का पितृपक्ष कुल 16 दिनों का है l

महालया आरंभ 1 सितंबर से और समाप्ति 17 सितंबर को सर्वपैतृ अमावस्या के साथ संपन्न l

पितर ( पितृ ) किन्हे कहा गया है ?

माता – पिता, पितामह – पितामही, प्रपितामह – प्रपितामही, चाचा- चाची, भाई, भतीजा, बुआ, बहन- बेटी, नाना- नानी और मामा के अलावे वे सभी लोग जो लोग जीवित नहीं है l वे सभी पितृ की श्रेणी में आते हैं l

पितृ तर्पण से क्या लाभ है ?

ऐसी शास्त्रीय मान्यता है की पितरों का तर्पण और उनके तिथि पर श्राद्ध करने से पितृ गण तृप्त होते हैं l और तर्पण करने वाले अपने वंशज को वंश वृद्धि तथा जन धन से संपन्न होने का आशीर्वाद देते हैं l जो लोग नियमित प्रतिवर्ष पितृ तर्पण अथवा पिता के निर्वाण तिथि पर उनका श्राद्ध करते हैं l उन्हें ऋण से मुक्ति प्राप्त होती है l धन संपन्नता आती है, और उनके वंशवेल में वृद्धि होती है l

स्वयं पितृ तर्पण कैसे करें ?

वैसे तो तर्पण के लिए नदी जलाशय या तालाब का होना आवश्यक माना गया है l और उसमें कर्मकांडी ब्राह्मण का साथ होना आवश्यक है l किंतु यदि ऐसी परिस्थिति नहीं हो और स्वयं तर्पण करना चाहते हैं l तो नदी तालाब अथवा अपने घर पर घर के बाहर तांबे, पीतल अथवा कांसे के पात्र में जल रखकर अपने पितरों का तर्पण किया जा सकता है l

कुशा, जौ, तिल, चंदन, स्वेत पुष्प, गंध और चावल से होता है पितृ तर्पण l

जौ से तर्पण करने पर देवता और ऋषि गण प्रसन्न होते हैं, तो तिल और चावल से तर्पण करने पर यमराज और पितृ गण प्रसन्न होते हैं l इस प्रकार नियमित तर्पण करने वाले के घर में धन की कमी नहीं होती l तथा उसके वंशज कभी दरिद्रता के शिकार नहीं होते हैं l और उनकी वंशावली भी प्रभावित नहीं होती है l

Pitru Paksha 2020 पितृपक्ष के दिनों में क्या करें ?

पितृपक्ष के दिनों में अपने पूज्य ब्राह्मण, ब्राह्मण, भगीना और जमाता को भोजन कराना तथा इनका सत्कार करना चाहिए l

माता पिता के निमित्त उनके श्राद्ध उनके निर्वाण ( मृत्यु) तिथि पर करने से पितृगण प्रसन्न होते हैं l

सौभाग्यवती मृत्यु को प्राप्त हुई माताओं का श्राद्ध नवमी तिथि में किया जाता है l

जिनके मृत्यु की तिथि ज्ञात नहीं है l उनका श्राद्ध अमावस्या के दिन किया जाता है l

ब्राह्मणों को महा विष्णु स्वरुप मानकर उन्हें पितरों के संतुष्टि के लिए भोजन कराकर उचित दान सम्मान करने से घर परिवार में सुख शांति आती है l और वंश वेल में वृद्धि होती है l

क्या नहीं करें पितृ पक्ष में ?

पितृपक्ष में पितृ गण अपने वंशज जो कि तर्पण का कार्य करते हैं l पितृ गण उनके आसपास ही किसी न किसी रूप में विराजमान रहते हैं l  ईन 16 दिनों में किसी भी तरह का अनैतिक कार्य तर्पण कर्ता को नहीं करनी चाहिए l जिससे पितरों को नाराज होना पड़े l

पितृपक्ष में लहसून, प्याज, मांस, मदिरा का सेवन भी नहीं करनी चाहिए l अगर पितृपक्ष के दिनों में इस तरह के कार्य किये गये तो पितृगण नाराज हो जाते हैं l किसी भी जीवजंतु की हत्या नहीं करनी चाहिए l सदाचार और ब्रह्मचर्य का उल्लंघन नहीं करनी चाहिए l पितृपक्ष में बाल एवं नाखुन श्राद्ध तिथि के दिन ही काटने चाहिए l श्राद्ध के पहले या बीच में नहीं l

Click Here to follow US on Instagram for daily vastu and astrology tips.

For More Information click here to consult our expert vastu consultant or click on the link below.

Talk to Astrologer for Rs.299 Only

About rashiastro

Check Also

Manglik Or kuja Dosh

Manglik Or Kuja Dosh

Manglik Or Kuja Dosh When mars is located in first house, fourth, seventh, eighth or …

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *